MAHRAIL: होली पर महरैल से दरभंगा के बीच चलेगी ट्रेन, 6 साल बाद होगा परिचालन, लोगों में खुशी : Star Mithila News

0

MAHRAIL: झंझारपुर-लौकहा के बड़ी रेल लाइन निर्माण कार्य महरैल स्टेशन तक का कार्य अंतिम चरण में है। अधिकारियों का दावा किया गया है कि इस रेलखंड के झंझारपुर से महरैल स्टेशन तक होली के मौके पर रेल परिचालन प्रारम्भ कर दिया जाएगा। जबकि झंझारपुर रेलवे जंक्शन से महरैल की दूरी 7 किलोमीटर की है।

झंझारपुर से लौकही की दूरी 43 किलोमीटर

पटरी जाने का कार्य पुरा कर लिया गया है। झंझारपुर से लौकही की दूरी 43 किलोमीटर है। जिसमें 64 छोटा पुल एवं 7 बड़ा पुल है। जिसमें कई पुल का निर्माण पूरा हो चुका है तो कई निर्माणाधीन है। जिसमें 51 छोटा पुल का निर्माण किया जा चुका है। वहीं 7 बड़ा पुल में से 4 पुल का निर्माण पूरा कर लिया गया है। झंझारपुर लौकहा रेल खंड में झंझारपुर बाजार हॉल्ट, महरैल, चंदेश्वर स्थान हॉल्ट, वाचस्पति नगर, बरहारा हाल्ट, खुटौना और लौकहा रेलवे स्टेशन है। अमान परिवर्तन को लेकर मध्य पूर्व रेलवे ने 26 मई 2017 को मेगा ब्लॉक लिया था।

अमान परिवर्तन कार्य के लिए 622 करोड़ आवंटित

झंझारपुर-निर्मली-लौकहा अमान परिवर्तन कार्य के लिए 622 करोड़ आवंटित है। इधर, इन रेलखंड पर ट्रेन का परिचालन नहीं होने से यात्रियों को परेशानी उठानी पड़ रही थी। लोगों को अधिक भाड़ा देकर बस या टेम्पो से सफर करना पड़ रहा था। लोगों को विश्वास है कि जिस तरह एन एच 57 बनने के बाद इस क्षेत्र के लोगों का व्यवसाय विभिन्न कारणों से बढ़ा है। वैसे ही ट्रेन सेवा प्रारंभ होने के बाद लोगों की जीविका के कई उपाए सामने आयेंगे और ज्यादा भाड़ा का भार से राहत मिलेगी। 

अब राहत मिलने वाली है

खासकर महरैल, चंदेश्वर हॉल्ट, वाचस्पति नगर, बरहारा, खुटौना, लौकहा आदि के लोगों को परेशानी हो रही है। इस इलाके के सैकड़ों लोगो को कई महत्वपूर्ण कार्यों के साथ साथ कोर्ट कचहरी के कार्यों के लिये झंझारपुर, दरभंगा और मधुबनी आना जाना पड़ता है। मेगा ब्लॉक के बाद उन लोगों पर यात्रा खर्च का बोझ बढ़ गया था। लेकिन अब राहत मिलने वाली है। रेल विभाग के इंजीनियर प्रमोद कुमार ने बताया कि इस वर्ष महरैल स्टेशन तक परिचालन प्रारंभ हो जाने का आसार है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top